दिल्ली से हरियाणा को जोड़ने की योजना तैयार, चलाई जाएगी रैपिड मेट्रो रेल

20211228 073658

नई दिल्ली: हरियाणा के कई शहरों के लिए खुशखबरी है, जल्द ही राज्य के कई बड़े शहर सीधे दिल्ली से कनेक्ट हो जाएंगे। दिल्ली और हरियाणा के बीच जल्द ही रेपिड मेट्रो रेल चलाए जाने की तैयारी बड़े पैमाने पर चल रही है। इस परियोजना के आंरभ होने के साथ हरियाणा और दिल्ली के बीच की कनेक्विटी बेहद आसान हो जाएगी। इससे लोगों के बिजनेस व रोजगार के कई रास्ते भी खुल जाएंगे। हरियाणा के जिन शहरों के बीच रेपिड रेल चलाए जाने की योजना को स्वीकृति मिली है, उनमें सोनीपत, करनाल, पानीपत और इन शहरों के रास्ते में आने वाले क्षेत्रों को शामिल किया गया है। दिल्ली और हरियाणा के इन शहरों के बीच 17 स्टेशन बनाए जाने हैं। इस परियोजना पर काम आरंभ होने वाला है।

इन शहरों को होगा सीधा लाभ

दिल्ली और हरियाणा के बीच करनाल, सोनीपत और पानीपत के बीच बनने वाले स्टेशन के लिए भूमि का चयन भी कर लिया गया है। बस अब इन पर काम आरंभ होने का इंतजार है। इस महत्वकांक्षी परियोजना के बाद लाखों लोगों का दिल्ली से हरियाणा आना जाना बेहद ही आसान हो जाएगा। करनाल जिले में तीन स्टेशनों का निर्माण किया जाएगा। जिन इलाकों में स्टेशन बनाने के लिए गांवों का चुनाव किया गया है, उनके नाम घरौंडा, ऊंचा सामना और बलडी के नाम तय किए गए हैं। बताया गया है कि इस रूट पर रेल सर्विस काफी अच्छे से चलेगी और हर 6 से 10 मिनट के बीच रेलों का आना जाना रहेगा। रेल में 250 यात्रियों के ही सवारी करने की अनुमति होगी।

यह भी पढ़ें  मेट्रो सफ़र करने वालों को शानदार तोहफ़ा, 29 underground स्टेशन के नाम जारी, मिलेगा स्पेशल सुविधा

शुरू हो गया ड्रोन सर्वे

फिलहाल इस रूट पर ड्रोन से सर्वे का काम शुरू करवा दिया गया है। हरियाणा और केंद्र सरकार इस महत्वकांक्षी परियोजना के जल्द ही शुरू करने को लेकर गंभीर दिखाई दे रहे हैं, यही वजह है कि सर्वे करने वाली कंपनी को एक महीने का समय दिया गया है। इस टाईम में कंपनी को अपना ड्रोन सर्वे पूरा करना होगा। बता दें कि इस प्रोजेक्ट के पूरा होने से हरियाणा के करनाल, पानीपत और सोनीपत के साथ साथ कुरूक्षेत्र, यमुनानगर, अंबाला, कैथल और चंडीगढ़ के लोगों को भी काफी लाभ मिलेगा। बताया जा रहा है कि इस रूट पर रेपिड रेल शुरू होने के साथ ही लोगों को दिल्ली आने जाने के लिए बस में जितना समय लगता है, उसमें आधे से अधिक समय की बचत होगी। इस परियोजना के आंरभ होने के बाद हरियाणा के विकास को नए पंख लग जाएंगे।