Home हरियाणा गुरुग्राम गुरुग्राम में शुक्रवार को खुले में नमाज को लेकर फिर विवाद, हिंदू...

गुरुग्राम में शुक्रवार को खुले में नमाज को लेकर फिर विवाद, हिंदू संगठन के सदस्‍यों ने की नारेबाजी, 13 अरेस्‍ट

आज जैसे ही जुमे की नमाज़ का वक्‍त हुआ तो हिंदू संगठन के सदस्‍य नमाज़ की जगह पर पहुंच कर नारेबाज़ी करने लगे.पुलिस ने कुल 13 लोगों को हिरासत में लिया है

quint hindi 2021 10 da6222bb d2e5 48fe 954a 1ad69086778a 9cf2ce2a d48a 4ccf 8fb9 2eb437f4d438 1

दिल्ली से सटे हरियाणा (Haryana)के गुरुग्राम (Gurugram)में शुक्रवार को खुले में नमाज़ को लेकर विवाद (Protest against namaz at public place)गहराता जा रहा है. पुलिस ने हालांकि शुक्रवार को कुल 37 जगहों पर नमाज़ पढ़ने की इजाज़त दी है लेकिन कुछ हिंदू संगठन पिछले पांच सप्‍ताह से नमाज़ के दौरान माहौल ख़राब करने की कोशिश कर रहे हैं.

आज जैसे ही जुमे की नमाज़ का वक्‍त हुआ तो हिंदू संगठन के सदस्‍य नमाज़ की जगह पर पहुंच कर नारेबाज़ी करने लगे.पुलिस ने कुल 13 लोगों को हिरासत में लिया है.

hqqcp12g gurgaon namaz oct

गौरतलब है कि इससे पहले पिछले सप्‍ताह शुक्रवार को भी उस समय तनावपूर्ण स्थिति बन गई थी जब गुरुग्राम के ही सेक्‍टर 12-A की एक निजी संपत्ति पर नमाज अदा कर रहे मुस्लिमों को उग्र भीड़, जिसमें कथित तौर पर बजरंग दल कार्यकर्ता शामिल थे, का सामना करना पड़ा. भीड़ ने ‘जय श्री राम’ के नारे लगाए थे.

images 62

पिछले सप्‍ताह की इस घटना के सामने आए विजुअल में मुस्लिम समुदाय के लोगों की नमाज की तैयारी के दौरान बड़ी संख्‍या में पुलिस (इसमें रैपिड एक्‍शन फोर्स के सदस्‍य भी शामिल हैं) को देखा जा सकता है. वीडियो में दर्जनों पुलिस कर्मियों को पीले रंग के बैरिकेड के पीछे खड़ा देखा जा सकता है. ये विरोध कर रही भीड़ को रोक रहे हैं जो ‘जय श्रीराम’ के नारे लगा रही है.

images 61

पिछले सप्‍ताह सेक्‍टर 12-A में नमाज का विरोध करने वालों में स्‍थानीय वकील कुलभूषण भारद्वाज भी थे, जिनकी पुलिसकर्मियों के साथ बहस हुई थी. बीजेपी के पूर्व नेता भारद्वाज ने उस जामिया मिलिया शूटर का प्रतिनिधित्‍व किया था जिसे गुड़गांव पुलिस ने सांप्रदायिक भाषण देने के आरोप में गिरफ्तार किया था.

images 63

पुलिस की ओर से आश्‍वासन दिए जाने के बाद ही भीड़ तितर-बितर हुई थी. हरियाणा के सेक्‍टर 47 में पिछले कुछ सप्‍ताह से ऐसे विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं, इलाके के लोगों का दावा है कि असामाजिक तत्‍व या रोहिंग्‍या शरणार्थी इलाके में अपराध करने के इरादे से ‘प्रार्थना’ का इस्‍तेमाल करते हैं. समाचार एजेंसी ANI ने पिछले सप्‍ताह एसीपी अमन यादव के हवाले से बताया था कि निवासियों के बीच इस मामले में कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन अब तक कोई समाधान नहीं निकल पाया है.