अगर आपके पास भी है इतनी पुरानी कार तो 1 जनवरी से दिल्ली-NCR में नो एंट्री

15 साल पुरानी पेट्रोल गाड़ियों पर एक्शन

संभागीय परिवहन अधिकारी ने नोएडा पुलिस को यह जानकारी मुहैया करा दी है और नोएडा पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने ट्रैफिक पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि 1 जनवरी के बाद बिना एनओसी के आ रहे वाहन के खिलाफ चेकिंग की जाए. इन पुरानी गाड़ियों को उत्तर प्रदेश के 33 जिलों में रजिस्टर कराया जा सकता है.

राजधानी दिल्ली में 1 जनवरी 2022 से 10 साल पुराने वाहनों का रजिस्ट्रेशन निरस्त करने की प्रक्रिया शुरू होगी. जबकि राजधानी से सटे जनपद गौतमबुद्ध नगर के आरटीओ ने बताया कि वो एनजीटी के आदेश पर 10 साल पुरानी डीजल और 15 साल पुरानी पेट्रोल व CNG गाड़ियों पर कार्रवाई कर रहे हैं. जो लोग अपने वाहन की फिटनेस चेक कराकर NOC नहीं लेते हैं, उनका रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया जाएगा.

दूसरे राज्यों में बेच सकते हैें ऑनर

दिल्ली में रजिस्टर्ड 10 साल पुरानी डीजल वाहन को ट्रांसफर या बेच सकते हैं. लेकिन ये वाहन आप दिल्ली में रहने वाले किसी शख्स को नहीं बेच सकते हैं. कुछ खास राज्यों और शहरों में रहने वालों को ही ये वाहन बेचा जा सकता है. इसके लिए आपको दिल्ली परिवहन विभाग से एनओसी लेना अनिवार्य होगा. दिल्ली परिवहन विभाग की तरफ से जारी एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) राजस्थान और मेघालय के सभी जिलों में मान्य है. साथ ही बिहार के 18 जिलों में यह एनओसी मान्य होगी.

परिवहन विभाग ने यह भी साफ कर दिया है कि दिल्ली में बाहरी राज्यों से पुरानी गाड़ियां को आने की इजाजत नहीं दी जाएगी. ऐसी गाड़ियों को पकड़े जाने पर चालान किया जाएगा. दरअसल दिल्ली परिवहन विभाग ने दिल्ली के पुराने वाहनों को कबाड़ में बदलने के लिए पांच कंपनियों को ठेका दिया है.