ठगों ने रक्षा मंत्रालय के रिटायर्ड अधिकारी से ठगे 8 लाख

फ्रॉड और धोखेबाज लोगों ने शहर के अंदर अपना पूरी तरीके से जाल बिछा लिया है न जाने कैसे हर व्यक्ति की निजी जानकारी इन लोगों के पास आसानी से पहुंच जाती है.

nfc: Don't think before you tap: how technology and fraud-detection models  are securing NFC payments - The Economic Times

आपको बता दें ऐसा ही एक मामला सेक्टर 9 थाना पुलिस ने दर्ज किया है जालसाज लोगों ने रक्षा मंत्रालय से रिटायर अधिकारी से पॉलिसी के नाम पॉलिसी क्लेम के नाम पर ₹800000 ठग लिए हैं. आपको बता दें आरोपियों ने8 लाख लेने के बाद महीने में क्लेम की राशि बैंक खाते में जमा करने की बात को कहा था आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज करके पुलिस ने मामले की जांच तेजी से शुरू कर दी है.
पुलिस के अनुसार शिवराज शिवराज सिंह जिनकी उम्र 80 साल है अपने परिवार के साथ सेक्टर 4 में रहते हैं और वह रक्षा मंत्रालय से 2008 में रिटायर हुए थे.

How COVID-19 Is Infecting the Payment Fraud Landscape - Banking Exchange

शिवराज सिंह ने बताया कि उन्होंने इंश्योरेंस की पॉलिसी को बंद कराया था इस कार्य फंड उनके बैंक खाते में आना था 2 अप्रैल 2021 को रामकिशन त्रिपाठी नाम के शख्स का फोन आया और उसने खुद को आयकर विभाग का अधिकारी बताया इसके बाद एक और कौन आया जिसने अपना नाम आशुतोष बजरी बताया और बोला की पॉलिसी का रिफंड 13 लाख 45 लाख रुपए है. और यह कम खाते में जमा हो जाएगी लेकिन इससे पहले आपको कुछ प्रोसेस पूरा करना होगा जिसके लिए 8 लाख ट्रांसफर करवाए गए 8 लाख देने के बाद कोई रिफंड नहीं आया जब शिवपाल शिवराज सिंह ने आरोपियों को फोन करना शुरू किया तो उन सभी के फोन बंद आने लगे. जिसके बाद रक्षा मंत्रालय के अधिकारी ने पुलिस में जा कर यह मामला दर्ज आप इस बात से अंदाजा लगा सकते है जब रक्षा मंत्रालय से रिटायर अधिकारी को जालसाज लोग अपने जल में फस सकते है तो आम इन्सान कैसे बचेगा.