एक कुली का बेटा बन गया 400 की करोड़ की कंपनी का मालिक

हम सभी अपनी रोजाना की जिंदगी जिंदगी में कुछ ऐसी छोटी-छोटी चीजों का इस्तेमाल करते रहते हैं जिनकी कीमत हमारे लिए मात्र कुछ रुपए ही होती है लेकिन उन्ही छोटी छोटी चीजों से कोई बहुत मोटी कमाई कर रहा होता है संभावना तलाशने की कला एक आम से इंसान को सक्सेसफुल बिजनेसमैन बनाती है और इसी तरह हुनर भी एक साधारण आदमी को करोड़ों का मालिक बना देता है इस लेख के माध्यम से हम एक ऐसे शख्स के बारे में बात कर रहे हैं जितने इडली दोसा बेचकर करोड़ों की कंपनी खड़ी कर ली आइए जानते हैं इस शख्स के बारे में


इडली और डोसा मुस्तफा की लाइफ पूरी तरीके से बदल कर रखती व्यापार करना इतनी बड़ी बात नहीं है व्यापार तो हर कोई कर सकता है लेकिन जिन हालातों में मुस्तफा वाले बड़े वहां से व्यापार करना और कामयाबी कामयाबी को छूना बहुत बड़ी बात है आपको बताते मुस्तफा के पिताजी एक गोली थे मुस्तफा के पास हमेशा से संसाधनों की कमी रही मुस्तफा कहते हैं इन सब में खास बात यह रही कि मैं कभी कठिनाइयों से नहीं हारा और हमेशा खुद को मोटिवेट रखा रेडी टू ईट खाने का शौकीन रखने वालों के लिए आईडी फ्रेश कंपनी का नाम कोई नया नाम नहीं है एडिफ्रेश जैसी ready-to-eat कंपनी की स्थापना मुस्तफा ने ही की थी


बाय नाइट के एक छोटे से गांव में मुस्तफा का जन्म हुआ मुस्तफा इस वक्त 48 वर्ष के हैं मुस्तफा जब पैदा हुए तो उनके घर में बहुत ज्यादा गरीबी थी उनके पिता कुली का काम करते थे मुस्तफा पढ़ाई करनी थी . लेकिन घर की परिस्थितियां उनको पढ़ने का मौका ही नहीं देती थी स्कूल से आने के बाद मुस्तफा पिता का हाथ बंटाने के लिए चले जाते थे.


मुस्तफा के पिता नहीं चाहते थे कि उनका बेटा यह सब काम करे लेकिन पेट पालने के लिए उनको मजबूरी में पिता के साथ काम करना पड़ता था पढ़ाई न होने के कारण मुस्तफा छठी क्लास में फेल हो गए थे लेकिन फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी हो मेहनत की और दसवीं की परीक्षा प्रथम स्थान से पास की मुस्तफा बताते हैं कि दशमी में मिली सफलता के बाद उनके समझ में आ गया था यदि उन्हें जिंदगी में कुछ हासिल करना है तो शिक्षा लेना बेहद जरूरी है अपनी मेहनत से मुस्तफा ने नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में कंप्यूटर साइंस में दाखिला ले लिया वह मेहनत की और उनको उनकी मेहनत का फल मिला और एक कुली की बेटे को अमेरिका में बहुत अच्छी जॉब मिल गई.

PC Mustafa

मुस्तफा की जिंदगी अब ट्रैक पर आ चुकी थी फिर भी मुस्तफा अपनी इस लाइफ से संतुष्ट नहीं थे बोला इसमें कुछ और बड़ा करना चाहते थे मुस्तफा ने अमेरिका में कई सेक्टर में काम किया उनका कहीं भी मन ना लगा और वह 2003 में अपने देश भारत लौट आए उनको अपनी काव्य पर विश्वास था कि वह भारत में कुछ भी कर अच्छे पैसे कमा सकते हैं मुस्तफा के दिमाग में इडली डोसा बेचने का आइडिया आया.

PC Mustafa


मुस्तफा ने जब पहले दिन अपनी कंपनी की शुरुआत की तब उन्होंने 5000 किलो चावल से15000 किलोग्राम इटली का मिश्रण तैयार किया और अपने स्कूटर पर लादने लादकर उसको बेचने के लिए चले गए आज मुस्तफा के कंपनी के हर शहर में ब्रांच है मुस्तफा की कंपनी ग्रामीणों को रोजगार देने पर ज्यादातर जी देती है मुस्तफा को ब्रेकफास्ट किंग भी कहा जाता है. मुस्तफा की कंपनी का 2015 और 2016 में 100 करोड़ का टर्नओवर था
यही 2019 और 2020 की बात करें तो मुस्तफा की कंपनी का टर्न ओवर 400 करोड़ तक पहुंच गया.