Home देश पेट्रोल 150 रुपए, डीज़ल 140 रुपए लीटर होगा दाम, 30% और बढ़ेगा...

पेट्रोल 150 रुपए, डीज़ल 140 रुपए लीटर होगा दाम, 30% और बढ़ेगा दाम, राहत की उम्मीद कोसो दूर

देश के अधिकतर शहरों में पेट्रोल 100 से 115 रुपये प्रति लीटर के बीच चल रहा है। डीजल के दाम भी 100 के पार पहुंच चुके हैं। कीमतों में आसमानी तेजी का यह सिलसिला थमने वाला नहीं है। इसका असर महंगाई पर भी होना तय है।

images 65

यदि आप पेट्रोल-डीजल की मौजूदा कीमतों को बहुत ज्यादा मान रहे हैं तो गलती कर रहे हैं। इनकी कीमतें अभी ‘बुलंदी’ पर पहुंचना बाकी है। बाजार विशेषज्ञों के अनुमानों पर यकीन करें तो समझ लीजिए कि पेट्रोल जल्द ही 150 रुपये लीटर पर पहुंच जाएगा और डीजल भी पीछे नहीं रहेगा।

images 64

हो सकता है कि अगले साल से आपको एक लीटर पेट्रोल के लिए 150 रुपए देने पड़ जाएं। ऐसा इसलिए क्योंकि कच्चे तेल की कीमतें अब रिकॉर्ड तोड़ने जा रही हैं। 2008 में जो कीमत कच्चे तेल की थी, वो अब फिर से आ सकती है।

115 रुपए पहुंच गई पेट्रोल की कीमत

फिलहाल कुछ शहरों में पेट्रोल की कीमत 115 रुपए तक पहुंच गई है। डीजल की कीमतें पहले से ही 100 रुपए प्रति लीटर के पार है। इस साल जुलाई में देश में पहली बार पेट्रोल की कीमत 100 रुपए को टच की थी। पेट्रोल की कीमतें ऊपर जाने के कई कारण हैं। सबसे पहला कारण ग्लोबल लेवल पर कच्चे तेल की कीमतें बढ़ रही हैं। दूसरा देश में लगातार एक्साइज ड्यूटी और राज्य सरकारों के टैक्स हमेशा बढ़ रहे हैं।

images 66

अगले साल तक 110 डॉलर बैरल होगी कीमत

वैश्विक ब्रोकरेज हाउस गोल्डमैन ने अनुमान लगाया है कि क्रूड ऑयल की कीमतें अगले साल तक 110 डॉलर प्रति बैरल पर जा सकती हैं। इस साल के अंत तक यह 100 डॉलर तक जा सकती है। यानी आज के हिसाब से कच्चे तेल की कीमतें 30% बढ़ सकती हैं। गोल्डमैन का कहना है कि ग्लोबल डिमांड और सप्लाई मिसमैच अभी भी बना हुआ है। फिलहाल तेल की डिमांड कोरोना से पहले के लेवल पर भी पहुंच गई है। इस वजह से ऐसा अनुमान है कि अगले साल इसकी डिमांड और बढ़ जाएगी।

कच्चे तेल की कीमतें 30% बढ़ी तो पेट्रोल 150 रुपए लीटर होगा

गोल्डमैन ने कहा कि तेल की कीमतें 30% बढ़ने का मतलब भारत में पेट्रोल की कीमतें 150 रुपए लीटर हो सकती हैं। डीजल की कीमतें 140 रुपए लीटर तक जा सकती हैं। फिलहाल पेट्रोल 113 रुपए और डीजल 104 रुपए लीटर बिक रहा है। गोल्डमैन के मुताबिक, हमारा अनुमान है कि तेल की ग्लोबल डिमांड 99 मिलियन बैरल प्रति दिन हो सकती है। यह जल्द ही 100 मिलियन बैरल प्रतिदिन पार कर जाएगी, जो कोरोना के पहले का लेवल है।

2014 में 49 रुपए लीटर पेट्रोल दे रही थीं ऑयल कंपनियां

जून 2014 में ऑयल मार्केटिंग कंपनियां यानी हिंदुस्तान पेट्रोलियम, भारत पेट्रोलियम और इंडियन ऑयल पेट्रोल 49 रुपए लीटर डीलर को दे रही थीं। डीलर का मार्जिन और केंद्र तथा राज्य सरकार का टैक्स मिलाकर 74 रुपए लीटर इसे बेचा जा रहा था। फाइनल रिटेल प्राइस में ऑयल मार्केटिंग कंपनियां 66% चार्ज कर रही थीं। जबकि डीलर का कमीशन और टैक्स का हिस्सा 34% होता था।

2021 में बेसिक कीमतों में 42% की कमी

अक्टूबर 2021 में ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने रिटेल की कीमतों में 42% कमी कर दी। जबकि टैक्स और डीलर कमीशन का शेयर बढ़कर 58% हो गया। केंद्र सरकार का टैक्स रिटेल प्राइस में साल 2014 में 14% हुआ करता था। 2021 में यह बढ़कर 32% हो गया। राज्य सरकारों का टैक्स 2014 में 17% था जो 2021 में बढकर 23% हो गया।