इस खबर में पढ़ें कोरोना वैक्सीन ना लगवाने के लिए हरियाणा रोडवेज कर्मचारियों के अनोखे बहाने

images 2022 01 15T180432.207

हिसार डिपो में कार्यरत कुछ रोडवेज कर्मियों की दूसरी डोज लगना बाकी है। कुछ कर्मियों को पहली वैक्सीन लगवाए हुए पांच से छह माह बीत चुके है, लेकिन अभी तक दूसरी डोज नहीं लगवाई है। जब रोडवेज विभाग ने कर्मियों से टीका न लगवाने का कारण पूछा तो सभी बहाने बनाने लगे। उनका कहना था कि पहली डोज लगवाई तो तेज बुखार हो गया था और तबीयत बिगड़ गई थी। कुछ ने सोचा कि कोरोना खत्म हो गया है, जिस कारण नहीं लगवाया। अब सरकार ने वैक्सीनेटेड अनिवार्य किया और विभाग ने जानकारी मांगी तो टीका लगवाने को कहा।


वैक्सीन लगवाने के प्रति कर्मी गंभीर दिखाई नहीं दे रहे है। इसका खुलासा रोडवेज विभाग की ओर से कर्मियों से वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट मांगने पर हुआ। हालांकि, डिपो में कई बार टीकाकरण कैंप लग चुका है और बस अड्डा पर हर रोज टीम आती है। इसके बावजूद कर्मियों ने टीकाकरण नहीं करवाया। इस बारे में प्रशासन ने रोडवेज विभाग से सूची मांगी है कि कितना स्टाफ वैक्सीनेशन है। फिलहाल डिपो में 1054 कर्मी तैनात है। इनमें से 980 कर्मियों ने दूसरा टीका लगवाया है, पर 74 स्टाफ ने दूसरी डोज नहीं लगवाई है।


डिपो से कुछ कर्मी स्वास्थ्य विभाग, जिला उपायुक्त कार्यालय व आरटीओ में काम कर रहे है। इनका कोई पता नहीं है कि वैक्सीन लगवाई है या नहीं। स्वास्थ्य विभाग में करीब 37 चालक और आरटीओ सहित अन्य विभागों में करीब 20 कर्मी है।


रोडवेज विभाग सोमवार को डिपो में कैंप लगाएगा। यह कैंप कर्मियों को वैक्सीनेटेड करने के लिए स्पेशल लगाया जाएगा। इसमें आमजन भी टीकाकरण करवा सकेंगे