हर खबर सबसे पहले...अभी जुड़ें
Whatsapp Group
Join
Telegram Channel
Join
Whatsapp Channel
Join
हमसे जुड़े

हरियाणा की सरकार का नया कदम:1 लाख 67 हजार नौकरियां आने वाली हैं”

हरियाणा में बेरोजगारी पर मुख्यमंत्री का करारा जवाब

भर्तियों में वृद्धि, बेरोजगारी को लेकर मुख्यमंत्री का दावा

Advertisements

हरियाणा में बेरोजगारी को लेकर चर्चाओं का केंद्रबिंदु बना हुआ है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विपक्षी दलों के आलोचनाओं का दम्म तोड़ते हुए कहा है कि आने वाले 6 महीनों में 61 हजार नई नौकरियों का दरवाजा खुलेगा।

भर्तियों का जश्न, कुल 1 लाख 67 हजार नौकरियों की तैयारी

मुख्यमंत्री ने संसद में अपने 9 साल के कार्यकाल के आंकड़े प्रस्तुत किए, जो कांग्रेस के 10 साल के कार्यकाल के आंकड़ों के साथ तुलना करने के लिए इस्तेमाल किए गए। उन्होंने बताया कि यहां तक कि ग्रुप-डी सीईटी के परिणाम के आधार पर भी नौकरी मिलेगी।

यह भी पढ़ें -  "एक पुस्तक, एक मिशन:हरियाणा में कक्षा 6 से 12 के छात्रों के लिए नैतिक सीख"

न्यायालय में चल रहा है ग्रुप-सी का मामला

हरियाणा और पंजाब हाई कोर्ट में ग्रुप-सी के मामले पर सुनवाई जारी है। सरकार ने प्रतिवादियों को बताया कि पिछले नौ साल में 11,500 क्लास-1 और 2 की भर्तियां और 1 लाख 6 हजार क्लास-3 और 4 की भर्तियां हुई हैं।

रोजगार को बढ़ावा देने के लिए HKRN की शुरुआत

मुख्यमंत्री ने हरियाणा कौशल रोजगार निगम का गठन करने का भी उल्लेख किया, जो रोजगार उपलब्ध कराने के लिए शुरू किया गया था। इस निगम के माध्यम से 1,05,728 पुराने मैनपावर को आर्थिक रूप से समायोजित किया गया है और 12,885 नए लोगों को नौकरी मिली है।

यह भी पढ़ें -  "हरियाणा के जिलों को जोड़ेगी नई हाई स्पीड रेल, जानिए डिटेल्स"

सरकारी कर्मचारियों की संख्या में असंतुलन

मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में सरकारी कर्मचारियों- अधिकारियों के लगभग चार लाख पद हैं, जिसमें कई विभागों में पदों की कमी है। उन्होंने शिक्षा विभाग के उदाहरण के रूप में बताया कि जेबीटी अध्यापकों की संख्या अधिक है जबकि नीति के अनुसार जरूरत है। इस पर सरकार ने बच्चों की संख्या के हिसाब से शिक्षकों की संख्या को नियंत्रित करने का फॉर्मूला बनाया है।