गेस्ट टीचर की बल्ले-बल्ले, सरकार की ओर से मिलेंगी अब ये सुविधाएं

20220113 132807
``` ```

हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने गेस्ट टीचर (Guest Teachers) की काफी समय से चली आ रही कई मांगों को मान लिया है. बुधवार को इस बाबत मुख्यमंत्री मनोहर लाल (CM Manohar Lal) और गेस्ट टीचर्स की एक बैठक हुई.

सीएम की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर, सीएम के पीएस अमित अग्रवाल, ACS डॉ महावीर सिंह, निदेशक सेकंडरी जे गणेशन, निदेशक मौलिक शिक्षा अंशज सिंह, व अतिथि शिक्षक संघर्ष समिति की ओर से 6 सदस्यीय शिष्टमंडल प्रदेशाध्यक्ष मैना यादव के नेतृत्व में मौजूद रहा. गेस्ट टीचर्स की मांगों पर काफी विचार विमर्श के बाद बैठक में निम्नलिखित बातों पर सहमति बनी.

मुख्यमंत्री श्री @mlkhattar से आज समस्त अतिथि अध्यापक संघ, हरियाणा के पदाधिकारियों ने अपनी मांगों को लेकर मुलाकात की। इन सभी मांगों पर सरकार और अतिथि अध्यापकों के बीच सहमति बनने के उपरांत संघ के पदाधिकारियों ने अपना सांकेतिक धरना स्थगित करने का आश्वासन दिया है।

यह भी पढ़ें  हरियाणा में चलेगी एक और सुपरफास्ट ट्रेन, ये रहेगा रूट


इसके अनुसार गेस्ट टीचर को कैशलैस मेडिकल सेवा सुविधा दी जाएगी. बैठक में आयुष्मान योजना के तहत 5 लाख तक का बीमा दिए जाने पर सहमति बनी. ग्रेच्युटी लाभ देने के साथ ही 20 कैज़ुअल लीव दी जाएंगी. इसके अलावा उन्हें मातृत्व, पितृत्व और मिस कैरिज अवकाश प्रदान किया जाएगा.

गेस्ट टीचर्स का GIS अकाउंट खोला जाएगा. बोर्ड ड्यूटी वरिष्टता व कैडर के अनुसार लगाई जाएगी. 1000 रुपये मेडिकल भत्ता दिया जाएगा


गेस्ट टीचर्स की बेसिक सैलरी, पद रिक्त न मानने की मांग, गृह जिलों में समायोजन, LTC की मांग पर फिलहाल सहमति नहीं बन सकी. बैठक में महासचिव पारस शर्मा,राज्य मीडिया प्रभारी राधाकृष्ण झोरड़, सुशील ढुल कैथल जिला प्रधान, राजीव चंदाखेड़ी वरिष्ठ उपाध्यक्ष, प्रदीप बतान वरिष्ठ उपाध्यक्ष, फतेह सिंह उप जिला प्रधान पलवल विशेष रूप से उपस्थित रहे.


शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि सर्विस रूल की मांग पर भी सहमति बन गई. आज बनी सहमति को एक सप्ताह में लागू कर दिया जाएगा. बैठक में गेस्ट टीचर के निधन पर आश्रितों को 3 लाख रुपये देने की मांग मुख्यमंत्री ने मान ली है.

इसके अलावा कंप्यूटर लैब सहायक और कंप्यूटर टीचर्स की मांगें मान ली गई हैं. गेस्ट टीचर्स की जो मांगें थीं, उनमें से ज्यादातर मान ली गई हैं. अगर वे फिर भी धरना जारी रखते हैं तो उनकी मर्जी है. बता दें कि बुधवार को यमुनानगर में शिक्षा मंत्री के आवास का घेराव किया गया था. कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि ये बिल्कुल गलत है, ये व्यवहार ठीक नहीं है.

यह भी पढ़ें  हरियाणा बॉर्डर पर पुलिस की सख्ती, काटे जा रहे हैं चालान