नहीं जाना होगा दुबई ,अब हरियाणा में ही ठीक होंगे हवाई जहाज, 200 एकड़ में बनेगा देश का पहला कार्गो हब

New Project 40

हरियाणा राज्य के हिसार में एयरपोर्ट निर्माण के बाद एक और बड़ी छलांग लगाने जा रहा है। राज्य में इस समय कई बड़ी परियोजनाओं पर काम चल रहा है,जिसके बाद आने वाले कुछ वर्षों में प्रदेश के युवाओं को रोजगार और बिजनेस के लिए किसी अन्य देश और प्रदेश में जाने की जरूरत नहीं होगी। राज्य सरकार जहां युवाओं को हवाई जहाज उड़ाने की टे्रनिंग देने की योजना पर तेजी से काम कर रही है, वहीं गुरूग्राम में हैलीहब का निर्माण भी राज्य के लिए विकास के बड़े दरवाजे खोलने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है।

इसके अलावा प्रदेश भर में मेट्रो रेल का विस्तार और नए हाईवे का निर्माण भी अपने आप में बड़े कदम कहे जा सकते हैं। इसके साथ ही हरियाणा में अब एक और बड़ा काम होने जा रहा है, जोकि अभी तक अपने प्रदेश के लिए ही नहीं बल्कि देश के लिए भी किसी सपने से कम नहीं था।हिसार में ठीक होंगे हवाई जहाज

देश में पहली बार कार्गो हब का निर्माण करने की दिशा में बड़ा कदम उठाया गया है। हैरानी की बात है कि देश में अभी तक अपने हवाई जहाज को ठीक करने के लिए अपने देश में कार्गो हब का निर्माण ही नहीं किया गया है। पंरतु अब हरियाणा ने इस दिशा में पहला और बड़ा कदम उठाया है, जिसके बाद अपने देश में ही हवाई जहाजों को ठीक करने का काम शुरू हो सकेगा। हरियाणा प्रदेश के हिसार में 100 से 200 एकड़ जमीन पर जल्द ही इंटीग्रेटिड कार्गो हब का निर्माण किया जा रहा है।

कार्गो हब बनने के बाद जहां अपने देश में ही हवाई जहाज ठीक किए जा सकेंगे, वहीं अब दुबई और सिंगापुर जैसे देशों पर भी निर्भरता खत्म हो जाएगी। बता दें कि देश में कार्बो हब ना होने की वजह से फिलहाल हवाई जहाज ठीक करवाने के लिए भारत को दुबई और सिंगापुर का रूख करना पड़ता है।

New Project 41

डिप्टी सीएम ने दी जानकारी

मगर हरियाणा ने इस दिशा में महत्वपूर्ण और बड़ा कदम उठाया है तथा हिसार में कार्बो हब बनाने का निर्णय लिया है। इसके बाद देश भर के जहाजों को ठीक करने के लिए हरियाणा भेजा जा सकेगा, यही नहीं बल्कि दुनिया के कई देश भी इसका लाभ उठा सकेंगे। इस व्यवस्था से प्रदेश के हजारों युवाओं के लिए रोजगार के रास्ते खुलेंगे।

राज्य के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने यह जानकारी दिल्ली में मीडिया के समक्ष दी। उन्होंने बताया कि  इंटीग्रेटिड कार्गो हब स्थापित करने को लेकर देश की बड़ी औद्योगिक कंपनियों से संपर्क किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि हाल ही में एविशन से जुड़ी एक बड़ी कंपनी ने सरकार से संपर्क भी किया जिसने 25 एकड़ भूमि पर अपने खर्च एमआरओ (मंटिनेंस, रिपेयर एंड ऑपरेशन ) बनाने की इच्छा जताई है।

हिसार में जहाजों को मरम्मत की सुविधा मिले

उन्होंने कहा कि हिसार में तीन हैंगर बन चुके हैं। उनका प्रयास है कि हिसार एमआरओ में विश्व के बड़े जहाजों को मरम्मत की सुविधा मिले, जोकि पहले भारत में अन्यत्र कहीं नहीं है। फिलहाल भारत के बड़े जहाजों के मरम्मत के लिए भी सिंगाापुर और दुबई में जाना पड़ता है।उन्होंने कहा कि हिसार में एविशन हब के लिए एयरो डिफेंस हब और मेनुफैक्रिंग हब के लिए प्रस्ताव आ रहे हैं। हिसार में इंटरनेशन लेवल का 10 हजार फीट का रनवे मई 2022 तक पूरा हो जाएगा और यह हरियाणा के लिए ऐतिहासिक कदम होगा।

उन्होंने कहा कि हिसार एविशन हब से जोड़ते हुए प्रदेश में इस तरह से सरकार आधारभूत ढांचे का विकास कर रही है कि दिल्ली का कार्गो भी हरियाणा से होते हुए सीधा पोर्ट तक जाए। दिल्ली के चारों ओर गुडग़ांव, सोनीपत और झज्जर में ऐसे केंद्र स्थापित करेंगे जहां से कार्गो क्लयरेंस की सुविधा होगी। इससे में प्रदेश का रिवेन्यू तो बढ़ेगा  ही कार्गा-शिपिंग कपंनियों को भी इसका लाभ मिलेगा।