हरियाणा के किसानों को बड़ी राहत, खेतों में अब ड्रोन से खाद और कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव

20220130 161011
``` ```

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। किसानों को खेतों में खाद और कीटनाशक दवाओं का छिड़काव करने में अब ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। घंटों का यह काम काम ड्रोन के जरिये मिनटों में होगा। केंद्र सरकार से प्रोजेक्ट को हरी झंडी मिलने के बाद प्रदेश सरकार भी ड्रोन प्रोजेक्ट को सिरे चढ़ाने में पूरी दिलचस्पी दिखा रही है। बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने के लिए सरकार की ड्रोन प्रोजेक्ट पर सब्सिडी देने की भी योजना है।

फसलों में कीटनाशकों का स्प्रे करने और खाद का छिड़काव करने में किसानों को मजदूर न मिलने की समस्या से दो-चार होना पड़ता है। इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोआपरेटिव लिमिटेड (इफको) ने इस समस्या का तोड़ ढूंढ़ लिया है। ड्रोन से स्प्रे के पायलट प्रोजेक्ट पर इफको काम कर रहा है। बाकायदा ड्रोन का संचालन करने के लिए 35 ग्रीन पायलटों को प्रशिक्षण भी दिया जा चुका है। ड्रोन से स्प्रे करने से किसान का समय बचेगा और मजदूरों की कमी की समस्या भी हल होगी। इसके साथ ही स्प्रे भी एक स्तर पर होगा। जब मजदूर स्प्रे करते हैं तो नोजल के दौरान कीटनाशकों का छिड़काव एक स्तर पर नहीं हो पाता है। इससे फसल में खरपतवार बढ़ जाते हैं।

यह भी पढ़ें  हरियाणा का सबसे बड़ा गाँव – जहां 700 साल पहले इस राजा ने बनवाया था 45 एकड़ का स्नानघर

परंपरागत तरीके से स्प्रे करने में लगता प्रति एकड़ 100 से 150 लीटर पानी, ड्रोन से लगेगा सिर्फ 10 लीटर

इफको के उपमहाप्रबंधक ओमकार सिंह बताते हैं कि ड्रोन की स्प्रे करने की क्षमता ज्यादा है। इससे आधा घंटे में पांच से सात एकड़ में आसानी से स्प्रे किया जा सकता है। सामान्य स्प्रे करने में 100 से 150 लीटर पानी की खपत होती है, जबकि ड्रोन से स्प्रे करने में मात्र 10 लीटर पानी लगेगा। इसके साथ ही कीटनाशकों का छिड़काव या खेत में काम करने के दौरान सांप या अन्य विषैले जीव के काटने से होने वाले मौत के मामलों में भी कमी आएगी।