गोल्डन मेट्रो : मेट्रो का नया रूप, चौथे चरण के अंतर्गत लिया गया फैसला

Nitesh Kush

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने ताजगी के साथ घोषित किया है कि दिल्ली एरोसिटी कॉरिडोर को अब ‘गोल्डन लाइन’ कहा जाएगा, जो इसे सिल्वर से निकलकर और भी चमकीला बना देगा। इस बदलाव के पीछे है डिजाइन की बेहतर विजिबिलिटी को बढ़ावा देना, जिससे यात्री अब सजग रहेंगे।

गोल्डन लाइन: यात्रा का नया अध्याय
लगभग 24 किलोमीटर और 15 स्टेशनों के साथ, गोल्डन लाइन आने वाले समय में बनेगी दिल्ली की धारा। इसका निर्माण सतत गति से हो रहा है और 2025 तक यात्रीगण को एक नई यात्रा का अनुभव करने का अवसर मिलेगा।

चौथे चरण की एक झलक: नए कॉरिडोरों का आगाज
गोल्डन लाइन के साथ, दिल्ली मेट्रो ने चौथे चरण में दो और कॉरिडोरों की घोषणा की है। मजेंटा लाइन, जो जनकपुरी पश्चिम से आरके आश्रम तक जाएगी, और पिंक लाइन, जो मजलिस पार्क से मौजपुर तक फैलेगी।

दिल्ली मेट्रो: रंगों का मेला
दिल्ली मेट्रो की हर लाइन एक विशिष्ट रंग के साथ जुड़ी होती है, जिससे इसकी पहचान होती है। येलो लाइन, ब्लू लाइन, और रेड लाइन सभी को मिलकर एक नई यात्रा का नया रूप देने के लिए तैयार हैं।