राजधानी में सात दिसंबर तक इन वाहनों को नहीं मिलेगा प्रवेश, कर्मचारियों को इन 14 जगह पर मिलेगी बस सेवा ये रहेगा समय।

20211202 141347

राजधानी में प्रदूषण के स्तर को देखते हुए केजरीवाल सरकार ने निर्माण कार्यों पर अगले आदेश तक रोक लगा दी है। साथ ही राजधानी दिल्ली में मालवाहक ट्रकों का प्रवेश 7 दिसंबर तक बंद रहेगा, सिर्फ आवश्यक वस्तु वाले और सीएनजी-इलेक्ट्रिक कमर्शियल ट्रक ही दिल्ली में प्रवेश कर सकते हैं। वहीं रेड लाइट ऑन गाड़ी ऑफ अभियान अब 18 दिसंबर तक चलेगा।

दिल्ली सरकार में पर्यावरण मंत्री  गोपाल राय ने दिल्ली के अंदर प्रदूषण के हालात को लेकर सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। जिसमें बात रखी गई कि दिल्ली के अंदर प्रदूषण के स्तर के आगे भी बहुत खराब श्रेणी में बने रहने की संभावना है। मौसम विभाग ने पूर्वानुमान जताया है कि बारिश हो सकती है, ऐसे में प्रदूषण में तब्दीली हो सकती है। इन परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए आज फैसला लिया गया है कि दिल्ली के अंदर निर्माण और डिमोलिशन के कार्य आगामी आदेश तक बंद रहेंगे।

यह भी पढ़ें  दिल्ली से देहरादून का सफर सिर्फ 2.5 घंटे में, गुजरेंगे एशिया के सबसे बड़े वाइल्डलाइफ मार्ग से

इसके अलावा दिल्ली सरकार के कर्मचारियों ‌के वर्क फ्रॉम होम को खत्म कर दिया है। और अपने कर्मचारियों को निजी वाहनों ‌से‌ ऑफिस‌ ना आएं इसके लिए 14 कॉलोनियों से विशेष बस शुरू की गई हैं।

दिल्ली के अंदर आज से 14 कॉलोनियों गुलाबी बाग, मयूर विहार फेस टू, मोतिया खान, शालीमार बाग ब्लॉक ए, तिमारपुर, हरी नगर, सेक्टर 3 द्वारका, निमडी कॉलोनी, अशोक विहार, ‌सेक्टर 11 रोहिणी, कड़कड़डूमा, मॉडल टाउन फेस वन, विकास पुरी, पश्चिम विहार और वसंत कुंज में सरकारी कर्मचारियों के लिए बस सुविधा शुरू की गई है

जिससे कि वो दफ्तर में आकर काम कर सकें और गाड़ियों से होने वाले प्रदूषण को भी इस तरह से कम किया जा सके। इन कॉलोनियों से बस सुबह 8 बजे चलेगी जो कि सचिवालय आएगी और शाम को 5 बजे उनके घर छोड़ेगी।

दिल्ली में प्रदूषण पैदा करने वाली गाड़ियों के पीयूसी सर्टिफिकेट की जांच का अभियान भी यातायात विभाग और पुलिस मिलकर जारी रखेगी। अभी तक अक्टूबर और नवंबर में 18 लाख पीयूसी सर्टिफिकेट जारी किए गए हैं। इन दो महीनों में 14 हजार वाहन चालकों को बिना पीयूसी सर्टिफिकेट के नियम उल्लंघन करते पकड़ा गया, जिनके ऊपर 10-10 हजार रुपये का चालान किया गया है।

यह भी पढ़ें  ग्रेटर नोएडा में जनवरी से चलेंगी सिटी बसें, जानिए 5 रूट में कहां है आपका घर-ऑफिस