ये हैं दिल्ली के सबसे पुराने और Iconic रेस्तरां, जहां एक बार जाना तो बनता है बॉस!

दिल्ली शहर में कुछ ऐसे ऐतिहासिक रेस्तरां हैं, जो सदियों पुराने हैं और आज भी लजीज जायकों से सबका दिल बहला रहे हैं।

इतिहास की गाथा गाता यह शहर दिल्ली बहुत खास है। सच कहते हैं कि दिल्ली में दिल बसता है। यह ऐतिहासिक और सांस्कृतिक रूप से महत्वपूर्ण शहरों में से एक है। दिल्ली की कहानियां ही नहीं, यहां के किरदार भी बहुचर्चित हैं। यहां की गलियां, यहां के लोग, यहां का पहनावा, यहां तक कि इस शहर का फूड कल्चर भी जगजाहिर है।

इसी तरह दिल्ली में कुछ बेहतरीन रेस्तरां मौजूद हैं जो सदियों पुराने हैं और तो और कुछ आजादी से पहले से भी दिल्ली शहर की शान बढ़ा रहे हैं। तो चलिए आज आप और हम दिल्ली के ऐसे ही कुछ चुनिंदा और आइकॉनिक रेस्तरां के बारे में जानें।

मोती महल

images 2021 11 25T082810.621

दिल्ली के पुराने और आइकॉनिक रेस्तरां की बात हो और हमें बटर चिकन देने वाला मोती महल इस लिस्ट में शामिल न हो, ऐसा नहीं हो सकता है। 1947 में भारत के विभाजन के बाद, दिल्ली में मोती महल की स्थापना कुंदन लाल गुजराल, कुंदन लाल जग्गी और ठाकुर दास ने दुनिया के बाकी हिस्सों में पंजाबी व्यंजनों को पेश करने वाले पहले रेस्तरां में के रूप में की थी। यह रेस्टोरेंट 1947 से ही लोगों को लजीज बटर चिकन परोसता आ रहा है। नॉनवेज लवर्स की यह पहली चॉइस रहती है। अगर आप अब तक यहां नहीं गए, तो एक बार यहां का नॉनवेज आइटम चखने के लिए जरूर जाएं।

पता– 3704, नेताजी सुभाष मार्ग, पुराना दरियागंज

इंडियन कॉफी हाउस

images 2021 11 25T082920.966

1957 में देश में पहले भारतीय कॉफी हाउस के रूप में स्थापित, इस कॉफी हाउस में प्रधानमंत्री जवाहरलाल से लेकर कई दिग्गज राजनेताओं ने चर्चाएं की हैं। खाने की बात करें तो यहां पर जबरदस्त साउथ इंडियन फिल्टर कॉफी और लजीज पकौड़े सर्व किए जाते हैं। खास बात यह है कि यहां के वेटर आज भी नेहरू कैप पहने लोगों को कॉफी सर्व करते दिखाई देते हैं। इतना ही नहीं, कनॉट प्लेस में यह सबसे ज्यादा पॉकेट फ्रेंडली रेस्तरां हैं जहां आप सैंडविच, पकौड़े, डोसा आदि ट्राई कर सकते हैं। दोस्तों के साथ हैंगआउट करने के लिए यह परफेक्ट प्लेस है और आपके बजट में भी है।

पता– बाबा खड़क सिंह मार्ग, मोहन सिंह प्लेस, दूसरी मंजिल, पीवीआर रिवोली के पास

करीम होटल

images 2021 11 25T083009.049

19वीं शताब्दी के मध्य में, मोहम्मद अजीज मुगल सम्राट के शाही दरबार में रसोइया थे। बहादुर शाह जफर के हट जाने के बाद, वह मेरठ और फिर बाद में गाजियाबाद आ गए। जब 1911 में, जब किंग जॉर्ज पंचम के राज्याभिषेक के लिए दिल्ली दरबार आयोजित किया गया था, तब अजीज के एक बेटे हाजी करीमुद्दीन ने एक ढाबा खोलने के विचार से दिल्ली का रुख किया। वह चाहते थे कि मुगल पाक कला का अनुभव दुनियाभर से आने वाले लोग लें। उन्होंने रुमाली रोटी, आलू गोश्त और दाल के साथ एक ढाबा खोला था। इसके बाद 1913 में, हाजी करीमुद्दीन ने जामा मस्जिद के पास करीम होटल के नाम से रेस्तरां खोला। तब से लेकर आज तक ये मीट लवर्स के लिए लोकप्रिय अड्डा है। यहां की निहारी, बिरयानी, मटन कोरमा और चिकन कबाब लोग चटकारे लगाकर खाते हैं।

पता– 16 उर्दू बाजार रोड, भैरों वाली गली, पुरानी दिल्ली

क्वालिटी रेस्टोरेंट

images 2021 11 25T083056.183

सन 1940 में पिशोरी लाल लांबा लाहौर से नई दिल्ली पहुंचे और उन्होंने रीगल बिल्डिंग में क्वालिटी नाम से एक आइसक्रीम स्टोर खोला। धीरे-धीरे यह एक रेस्तरां के रूप में तब्दील हो गया। यहां के चने भटूरे और चिकन चॉप्स बहुत फेमस है। इस रेस्तरां को हालांकि अब नया रूप दिया गया है, मगर यह आज भी पुरानी दिल्ली और पुराने सीपी के किस्सों को दर्शाता है। मशहूर फोटोग्राफर मदन महता द्वारा 40 साल में फैले कनॉट प्लेस की लगभग 70 मूल तस्वीरें यहां आपको मिलेंगे। अगर आप एक रॉयल अनुभव लेना चाहें, तो यहां जरूर जाना चाहिए।

पता– नंबर 7, रीगल बिल्डिंग, संसद मार्ग, हनुमान रोड एरिया, कनॉट प्लेस

गुलाटी

images 2021 11 25T083137.441

पंडारा रोड पर स्थित गुलाटी रेस्तरां उन रेस्टोरेंट्स में से एक है, जहां लोग घंटों इंतजार से भी नहीं कतराते। वजह है यहां पर मिलने वाली क्लासिक नॉन वेज डिशेज। यहां के गलौटी कबाब, तंदूरी मशरूम, बटर चिकन, और हांडी चिकन, बहुत फेमस हैं। बात करें इसकी स्थापना की तो इसे साल 1959 में स्थापित किया गया था। अगर आप दिल्ली में कुछ खाने के कुछ बेहद स्पेशल जगहों को एक्सप्लोर करना चाहें तो गुलाटी उनमें से एक हो सकता है। (नॉनवेज खाने के शौकीनों को दिल्ली के इन होटलों में मिलेगा असली स्वाद)

पता-6, पंडारा रोड, पंडारा मार्केट, इंडिया गेट के पास

ये हैं दिल्ली के चुनिंदा आइकॉनिक रेस्तरां, जिनका नाम ही काफी है। अगर आपको दिल्ली के बारे में थोड़ा और जानना हो तो हम तो यही कहेंगे कि दिल्ली को उसके खाने से जानिए और इन रेस्तरां का चक्कर एक बार लगाना तो बनता है।