गुरूग्राम के पेट्रोल पंपों पर लग रही वाहन चालकों की भीड़, दिल्ली के पेट्रोल पंप पड़े हैं खाली, वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

गुरुग्राम में बिक्री 25 फीसद तक बढ़ गई है। दीपावली की लंबी छुट्टी के बाद सोमवार को पहला कामकाजी दिन था। दिल्ली सरकार ने जल्द ही हस्तक्षेप कर वैट दरों में कटौती नहीं की तो पेट्रोल की बिक्री पर 50 फीसद तक असर पड़ सकता है।

पेट्रोल पंप संचालकों ने दावा किया है कि पड़ोसी राज्यों द्वारा वैट दर घटाने के चलते दिल्ली में बार्डर पर स्थित पेट्रोल पंपों से पेट्रोल की बिक्री में 30 फीसद तक की गिरावट आई है। वहीं, गुरुग्राम में बिक्री 25 फीसद तक बढ़ गई है। दीपावली की लंबी छुट्टी के बाद सोमवार को पहला कामकाजी दिन था। पहले दिन से ही पड़ोसी राज्य सरकारों के फैसले का असर दिल्ली में दिखने लग गया है। पंप संचालक आशंका जता रहे हैं कि अगर दिल्ली सरकार ने जल्द ही हस्तक्षेप कर वैट दरों में कटौती नहीं की तो पेट्रोल की बिक्री पर 50 फीसद तक असर पड़ सकता है।

कमोबेश यही हाल डीजल की बिक्री का भी हो सकता है। पंप संचालक मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से भी मिलकर इस मामले का निदान निकलवाने की कोशिश में हैं। दिल्ली में छोटे-बड़े तकरीबन 10 बार्डर हैं, जिससे देश के विभिन्न राज्यों से दिल्ली जुड़ता है। इन बार्डरों के जरिये बड़ी संख्या में व्यावसायिक वाहन गुजरते हैं तो कामकाज के सिलसिले में भी लोग आते-जाते रहते हैं। इन बार्डरों पर दिल्ली सीमा में 150 से अधिक पेट्रोल पंप हैं।

दिल्ली पेट्रोल डीलर्स एसोसिएशन के प्रवक्ता निशिथ सिंघानिया ने कहा कि पेट्रोल की बिक्री में 30 फीसद की गिरावट दर्ज की गई है। उनका भी एक पेट्रोल पंप बार्डर पर है। पहले जहां वहां से सामान्य दिनों में रोज 10 हजार लीटर तक पेट्रोल बिकता था, लेकिन सोमवार को सात हजार लीटर की ही बिक्री हुई है। पेट्रो पदार्थो की बिक्री मामले में ज्यादा असर पेट्रोल पर ही दिख रहा है, क्योंकि पड़ोसी शहरों के मुकाबले दिल्ली में इसकी कीमत तकरीबन आठ रुपये अधिक है। दिल्ली में इसकी कीमत जहां 103.97 रुपये प्रति लीटर है, वहीं गुरुग्राम में यह 95.90 पैसे में बिक रहा है। गुरुग्राम के पेट्रोल पंप संचालक हरीश ने बताया कि बिक्री 25 फीसद तक बढ़ जाने के कारण उन्हें एक टैंकर अतिरिक्त पेट्रोल मंगवाना पड़ा है।