Home दिल्ली-एनसीआर राजधानी में प्रदूषण का जिम्मेदार कौन, केजरीवाल सरकार या किसान…

राजधानी में प्रदूषण का जिम्मेदार कौन, केजरीवाल सरकार या किसान…

राजधानी में प्रदूषण से हालात बूरे है। लोगों को सांस लेने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। और बीजेपी इन्हीं बूरे हालातों को जिम्मेदार ठहराया है। बीजेपी का कहना है कि हर मुसिबत में विफल सरकार के चलते दिल्ली वालों को जहरीली सांसे लेनी पड़ रही हैं। फ्लैग स्टाफ रोड़ स्थित मुख्यमंत्री आवास के निकट दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने तो नैतिकता के आधार मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का इस्तीफा मांगा है।

प्रदूषण का जिम्मेदार किसान?

वहीं प्रदर्शन को संबोधित करते हुए रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने साफतौर पर पूछा है कि दिल्ली में प्रदूषण का दोष कब तक किसानों पर डाला जाएगा? सच्चाई यह है कि दिल्ली सरकार प्रदूषण पर रोक लगाने के लिए उपायों का ऐलान तो करती रही लेकिन व्यावहारिक रूप से कोई कदम नहीं उठाया।

दिल्ली प्रदूषित, हरियाणा- पंजाब क्यों नहीं ?

इसके अलावा कनाट प्लेस को लेकर भी केजरीवाल सरकार पर तंज कसा है। उन्होनें कहा है कि कनाट प्लेस में स्माग टावर लगाकर अपनी पीठ तो थपथपाई थी। लेकिन आज वह भी बेअसर साबित हो गया है। अगर पराली जलाने की वजह से दिल्ली में प्रदूषण है तो पंजाब और हरियाणा जैसे राज्यों में यहां से ज्यादा प्रदूषण होना चाहिए। लेकिन लुधियाना में पीएम 2.5 का स्तर 203, रूपनगर में 153, चंडीगढ़ में 132, पटियाला में 264, भटिंडा में 237, जालंधर में 262 और अमृतसर में 273 रिकार्ड दर्ज हो रहा है। जबकि दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बेहद खतरनाक श्रेणी में पहुंच गया है।

दिल्ली में ही प्रदूषण क्यों है ?

दिल्ली में ही प्रदूषण क्यों है…? इसका कारण बिधूड़ी ने सिर्फ केजरीवाल सरकार के काले कारनामों को बताया है। यहां की सार्वजनिक परिवहन प्रणाली का भट्ठा बैठ चुका है। बीते सात वर्षों में केजरीवाल सरकार ने एक भी नई बस नहीं खरीदी। मेट्रो के कार्य में भी दिल्ली सरकार के व्यवधान की वजह से अभी तक चौथा फेज का कार्य शुरू नहीं हो पाया है।