Home दिल्ली-एनसीआर DDMA ने जारी किए नए आदेश, अब मेट्रो,बसों में यात्रा करना होगा...

DDMA ने जारी किए नए आदेश, अब मेट्रो,बसों में यात्रा करना होगा आसान

डीडीएमए के इस आदेश से लोगों को बड़ी राहत मिलने की उम्मीद है। जानकारी के लिए बता दे बैठने की क्षमता के अनुसार 50 फीसदी यात्री ही खडे़ होकर यात्रा कर सकेंगे। यानी बसों में जितने यात्री बैठकर यात्रा कर रहे होंगे, उससे आधे ही खडे़ हो सकेंगे। नई व्यवस्था तत्काल प्रभाव से लागू मानी जाएगी।

प्रदूषण को ध्यन में रख लिए फैसले

डीडीएमए ने आदेशों में प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए ही कुछ नए आदेश भी दिए है। जिससे लोगों को राहत की उम्मीद जताई जा रही है। दरअसल अधिक से अधिक लोग निजी वाहन छोड़कर बसों का उपयोग कर सकें। इस बार में बसों और मेट्रो में कोराना से बचाव के नियमों का भी पूरी तरह से पालन करना होगा।

1 दिसंबर से नए आदेश जारी

कोरोना की लहर ने सभी को मन में डर पैदा कर दिया था। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान सरकार बेहद एतियात बरतने को कहा था। साथ ही बसों और मेट्रो में यात्रीयों के खड़े होकर यात्रा करने पर प्रतिबंध लगा दिया था। वहीं अब हालात ठीक होते ही फिर से डीडीएमए ने मेट्रो और बसों के कैपिंग भी लगा दी है। यानी अब मेट्रो में पहले की तरह सभी सीटों पर बैठने की अनुमति के साथ अब प्रति बोगी में 30 यात्री खडे़ होकर यात्रा कर सकेंगे। और डीटीसी की बसों में भी सीटों पर बैठने की अनुमति मिल गई है…

50 फीसदी यात्री हो सकते है खड़े

इसके अलावा डीडीएमए ने कहा है कि यह 15 नवंबर को जारी किए गए आदेश का संशोधन है जो एक दिसंबर की सुबह तक प्रभावी माना जाएगा। बसों और मेट्रो में खडे़ होकर यात्रा करने की अनुमति देने की मांग काफी समय से उठ रही थी। दिल्ली में बढ़ चुकी प्रदूषण की समस्या के मद्देनजर गत दिनों दिल्ली सरकार ने इस बारे में प्रस्ताव तैयार करा कर डीडीएमए को भेजा था। परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने उम्मीद जताई है कि डीडीएमए के इस आदेश से काफी राहत मिल सकेगी।

आटो,टैक्सी को नहीं कोई छूट
बता दे कि ये आदेश सिर्फ बसों और मेट्रो के लिए

बता दे कि ये आदेश सिर्फ बसों और मेट्रो के लिए ही है… आटो, टैक्सी, ग्रामीण सेवा व ई रिक्शा को सीटिंग कैपेसिटी के मामले में छूट नहीं दी गई है। आटो, टैक्सी, ई रिक्शा, कैब, ग्रामीण सेवा और फटफट सेवा में अभी दो यात्रियों की बैठ सकते हैं।