दिल्ली मेट्रो मे इस छोटी गलती के लिये 200 रुपये जुर्माना तय।

कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर लोगों की जरा सी लापरवाही दिल्ली पर भारी पड़ सकती है। ऐसे में दिल्ली मेट्रो में सफर के दौरान मास्क जरूर लगाएं वरना दिल्ली मेट्रो रेल निगम 200 रुपये का जुर्माना लगाएगा

दिल्ली मेट्रो में सफर के दौरान प्रत्येक कोच में 100 फीसद सिटिंग कैपिसिटी के साथ 30 यात्रियों को खड़े कर सफर की इजाजत तो मिल गई है, लेकिन इस दौरान लोगों का खास सावधानी बरतनी है। कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर लोगों की जरा सी लापरवाही दिल्ली पर भारी पड़ सकती है। ऐसे में दिल्ली मेट्रो में सफर के दौरान मास्क जरूर लगाएं, वरना दिल्ली मेट्रो रेल निगम 200 रुपये का जुर्माना लगाएगा। दिल्ली मेट्रो स्टेशनों और ट्रेनों में सफर के दौरान शारीरिक दूरी के नियम नहीं मानने पर भी 200 रुपये का प्रावधान है, लेकिन 100 फीसद सिटिंग कैपिसिटी के सफर की अनुमति के बाद यह नियम शिथिल हो गया है, वहीं मास्क नहीं लगाने पर 200 रुपये जुर्माने का नियम बरकरार है।

बता दें कि अब दिल्ली मेट्रो के हर कोच में 30 यात्री खड़े होकर सफर कर रहे हैं। पूर्व में केवल 100 फीसद सिटिंग कैपेसिटी के हिसाब से ही यात्रियों को यात्रा करने की इजाजत थी। उधर, डीटीसी और क्लस्टर की बसों में 100 फीसद सीटिंग कैपेसिटी के अलावा सिटिंग क्षमता के साथ 50 फीसद यात्री खड़े होकर सफर कर रहे हैं।

गौरतलब है कि फिलहाल कोविड सुरक्षा प्रोटोकाल के अनुसार, थर्मल स्क्रीनिंग और हाथों में सैनिटाइजर लगाने के बाद ही दिल्ली के सभी मेट्रो स्टेशनों पर यात्रियों को प्रवेश दिया जा रहा है। इसके साथ ही यात्रियों को मास्क के साथ अपने चेहरे को अच्छी तरह से कवर करने के साथ ही मेट्रो में यात्रा करने दी जा रही है। इस दौरान मेट्रो परिसर में सामाजिक दूरी का भी पालन करना होता है, लेकिन पिछले कई महीने से 100 फीसद सिटिंग कैपिसिटी के साथ मेट्रो ट्रेनें रफ्तार भर रही हैं, ऐसे में कोच में शारीरिक दूरी का पालन नहीं हो पा रहा है।

हालांकि, डीएमआरसी में कार्पोरेट कम्युनिकेशंस मामलों के कार्यकारी निदेशक अनुज दयाल पहले ही कह चुके हैं कि अगर ऐसा पाया जाता है कि स्टेशनों पर सामाजिक दूरी का पालन नहीं हो रहा है तो उन स्टेशनों पर यात्रियों के लिए प्रवेश द्वार बंद कर दिए जाएंगे।