सरकार ने महिलाओं के खाते में ट्रांसफर किए 4000 रुपये, जानें आपके अकाउंट में पैसा आया है या नहीं?

20220112 174704

नए साल पर सरकार देश की महिलाओं के लिए एक ख़ास तोहफा देने के तैयारी कर रही है।

बता दें कि बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी योजना (Business Correspondent Sakhi Yojana) के तहत सरकार ने महिलाओं कें खाते में धनराशी भेजी है। जो महिलाएं इस योजना में रजिस्टर्ड हैं, उनके खाते में पहली सैलरी भेज दी गई है।

देश में महिलाओं पर होते अत्याचार को देखते हुए सरकार भी अब महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हर संभव प्रयास करती रहती है। सरकार ने महिलाओं को रोजगार दिलाने के लिए कई योजनाओं को शुरू किया है।

इन्हीं योजना में से एक बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी योजना (Business Corporate Sakhi Yojana) है। इस योजना के तहत देश की गरीब पर जरुरतमंद महिलाओं को कुछ मानदेय के रूप में सरकार की ओर से धनराशि प्रदान की जाती है। जिससे की महिलाएं अपना कारोबार शुरू कर सकती है।

इसी कड़ी में नए साल पर सरकार देश की महिलाओं के लिए एक ख़ास तोहफा देने के तैयारी कर रही है। बता दें कि बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी योजना (Business Correspondent Sakhi Yojana) के तहत सरकार ने महिलाओं कें खाते में धनराशी भेजी है। जो महिलाएं इस योजना में रजिस्टर्ड हैं, उनके खाते में पहली सैलरी भेज दी गई है।

करीब 20000 बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी (Business Correspondent Sakhi Yojana) के खाते में 4000 रुपए ट्रांसफर किए हैं। यही नहीं सखी योजना से जुड़ी महिलाओं को सैलरी के साथ काम करने पर कमीशन भी दिया जा रहा है।


बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी योजना (Business Correspondent Sakhi Yojana) यानि सेल्फ हेल्प ग्रुप छोटे लेवल पर काम कर रही महिलाओं का एक समूह है। ये अपने संसाधनों और सेविंग्स फंड का इस्तेमाल करके अपना कारोबार बढ़ता हैं। किसी सूक्ष्म कारोबार से जुड़े इस गु्रप में 10-25 महिलाएं शामिल हो सकती हैं।

एसएचजी यानी सेल्फ हेल्प गु्रप बनाने के लिए समूह को रजिस्टर करना होता है। साथ ही बैंक खाता खुलवाना होता है। वहीं तय सीमा में बेहतर प्रदर्शन पर बैंक की तरफ से उसे आसान ऋण मिलने लगता है।

साथ ही कई सरकारी योजनाओं का लाभ भी मिलता है। इस योजना का इसका मकसद ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिंग सुविधाओं को पहुंचाना है। इस सरकारी योजना से उत्तरप्रदेश की 58000 महिलाओं को रोजगार मिलेगा।